बच्चों की कहानियाँ

Illustration of a colorful classroom with children gathered around a teacher, symbolizing a moral story for class 2.

Moral Story in Hindi for class 2

कारगिल की लड़ाई (Moral Story in Hindi for class 2) 3 मई, 1999 को बटालिक सेक्टर में, एक चरवाहे, “ताशी नामग्याल” ने देखा कि कुछ लोग हथियारों के साथ भारत की सीमा में घुस आए हैं, इसकी सूचना उसने एकदम ही भारतीय सेना को दे दी। मई के शुरुआती दिनों में हमारी सेना ने स्थिति …

Moral Story in Hindi for class 2 Read More »

Class 2 Short Moral Stories in Hindi for childrens, our stories are short with proper illustrations, each and every story is carefully selected for childrens of class 2, 3

Class 2 Short Moral Stories in Hindi

नमस्ते दोस्तों, बच्चों के विकास में MORAL STORIES का महत्वपूर्ण योगदान होता है और यहाँ हम प्रस्तुत कर रहे हैं “Class 2 Short Moral Stories in Hindi.” यह कहानियाँ न केवल मनोरंजन प्रदान करती हैं, बल्कि बच्चों को अच्छे मार्गदर्शन की भी प्रेरणा देती हैं। इन कहानियों के माध्यम से बच्चे सिखते हैं कि कैसे …

Class 2 Short Moral Stories in Hindi Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-11)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-11) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-8)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-8) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-7)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-7) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-6)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-6) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-5)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-5) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-4)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-4) Read More »

घड़ियों की हड़ताल  (Chapter-3)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल  (Chapter-3) Read More »

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-2)

-( रमेश थानवी ) Ramesh Thanvi Hindi Sahitya me Khaniyon ka Bada mehhatav hai , hindi kahaniyaan bachhon ke mansik vikas ke liye ek unnat or jacha parkha madhyam hai,Yahan Par hmare dwara देश में प्रौढ़ शिक्षा का अलख जगाने वालों में अग्रणी, साहित्य और दर्शन के अध्येता, एक दौर के प्रतिष्ठित साप्ताहिक ‘प्रतिपक्ष’ की …

घड़ियों की हड़ताल (Chapter-2) Read More »

Scroll to Top